VicksWeb upgrade Location upload ads trending
VicksWeb भारत
शवों की शिनाख�त म�श�किल थी, घड़ी से और मोबाइल पर घंटी देकर बेटियों की पहचान की
Source:  bhaskar
Saturday, 25 May 2019 07:53

सूरत. सरथाणा जकातनाका के तक�षशिला आर�केड में लगी आग में आर�ट-हॉबीज क�लासेज के छात�र-छात�राओं समेत 21 की मौत हो गई। इनमें से 16 की मौत जलकर और तीन की मौत चौथी मंजिल से कूदने से ह�ई। परिजनको अपने मृतक बच�चों की पहचान करना म�श�किल हो गया। उन�होंने घड़ी और मोबाइल पर घंटी देकर शिनाख�त की।कई तो घंटों तक भटकते रहे।

18 साल की जाह�नवी चत�रभाई वसोया और 17 साल की कृति नीलेश दयाल की पहचान उनकी घड़ियों से ह�ई। इनके परिजन ने बताया कि दोनों इंस�टीट�यूट में प�ने आती थीं। क�छ दिन पहले इन�हेंघड़ी दिलाई थी। क�छपरिजनबच�चों कोढूंढते ह�� स�मीमेर अस�पताल पह�ंचे। इसी तरह 18 साल की �शा खड़ेलाड�रॉइंग सीखने जाती थी। पिता ने �शा के मोबाइल पर फोन किया, तो घंटी मोर�चरी में रखे शव से चिपके मोबाइल पर बजी। वहीं, मौजूद �क कर�मचारी ने फोन उठाया और पिता को पूरी घटना बताई। �शा पूरी तरह जल च�की थी, लेकिन संयोग से फोन बच गया था।

प�लास�टिक के बोरो में लाई गई लाशें

  • सà¥�मीमेर असà¥�पताल à¤�क के बाद à¤�क करीब 10 à¤�मà¥�बà¥�लेंस में 17 शव 30 मिनट में पहà¥�ंचाà¤� गà¤�। शव चादर और पà¥�लासà¥�टिक के बोरों में लाà¤� गà¤�। उधर, पीड़ित बचà¥�चों के परिजन का असà¥�पताल पहà¥�ंचना शà¥�रू हो गया था।
  • शव तो उनके सामने थे, लेकिन उनà¥�हें पहचानना मà¥�शà¥�किल था। उनकी पहचान के लिà¤� कोई पासपोरà¥�ट फोटो तो कोई मोबाइल में फोटो लेकर आया था। बेहाल होकर वे अपने लापता परिजन और बचà¥�चों की फोटो सभी को बताकर पहचान की कोशिश करते देखे गà¤�।

हादसे के वक�त 60 बच�चे अलग-अलग क�लासेज में मौजूद थे
घटना के समय 15 से 22 की उम�र के 60 छात�र-छात�रा�ं दूसरी और तीसरी मंजिल पर चलने वाली दो आर�ट-हॉबीज क�लासेज अटेंड कर रहे थे। देर रात तक 21 शवों की शिनाख�त हो पाई। हादसा ग�र�वार दोपहर 3:40 बजे ह�आ। शाम को करीब 7:30 बजे तक आग ब�� पाई।

मरना तो तय था मैंने सोचा कूद गया तो बच जाऊंगा

  • 15 साल के राम वाघाणी ने बताया, "मैं अलोहा के नाम से चल रहे माइंड फà¥�रेश यानी कि मेंटली डेवलप कà¥�लासेस में था तभी धà¥�आं चारों ओर फैलने लगा। मैडम जेनीशाबेन के साथ मैं भी तीसरी मंजिल पर गया। हमारे पास तीसरी मंजिल से कूदने के सिवाय दूसरा कोई रासà¥�ता नहीं था। अब तो मरना ही है, यह सोचकर कूद गया। शà¥�कà¥�र है बच गया।"
  • लोग फोटो लेने और वीडियो बना रहे थे तभी केतन दूसरी मंजिल तक पहà¥�ंच गया और नीचे उतरने की कोशिश कर रहे दो बचà¥�चों को आग से बचा लिया।
  • हॉसà¥�पिटल में भरà¥�ती रेंसी ने बताया, "घटना के समय वे कà¥�रिà¤�टर इंसà¥�टीटà¥�यूट में कà¥�लास में थीं। कà¥�लास में 22 लोग थे। दो-तीन छोटे बचà¥�चे भी थे। कॉमà¥�पà¥�लैकà¥�स में à¤�ंटà¥�री-à¤�गà¥�जिट à¤�क ही है। इसलिà¤� धà¥�à¤�ं और लपटों से सांस लेना भी मà¥�शà¥�किल हो गया था। हमारी इंसà¥�टीटà¥�यूट के इंसà¥�टà¥�रकà¥�टर बचने के लिà¤� खà¥�द ही कूद गà¤� थे। हमने सोचा कि अंदर रहे तो जलकर मरेंगे, कूदे तो हाथ-पैर ही टूटेंगे शायद जान बच जाà¤�।"


39 साल पहले शांतिनाथ मिल में 98 की मौत ह�ई थी: 39 साल पहले शांतिनाथ मिल द�र�घटना में भीषण आग लगी थी। इस हादसे में 98 लोगों की मौत हो गई थी और 105 लोग जख�मी हो ग� थे। दमकल विभाग के 200 कर�मचारियों को आग को ब��ाने में पांच दिन लगे थे।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लि� दैनिक भास�कर �प डाउनलोड करें
जब शवों को लेकर स�मीमेर पह�ंचे तो �क के पीछे �क शवों को लि� स�ट�रेचर की कतार लग गई
शवों को पहचानना तक म�श�किल था। न शरीर पर कोई कपड़ा बचा और न त�वचा। केवल हड�डियों का ढांचा बचा। घड़ी, मोबाइल और चेन से पहचाना गया।
families identified dead bodies by watching clock and mobile
families identified dead bodies by watching clock and mobile
families identified dead bodies by watching clock and mobile

क�या आप जानते है बा�ं हाथ में क�यों पहनते हैं घड़ी?
Source:  Emalwa
Saturday, 25 May 2019 07:49

बा�ं हाथ में घड़ी पहनने से भी पहले आपको उस दौर में चलना होगा जब घड़ियां हाथ में नहीं पॉकेट में ह�आ करती थीं। आपने भी प�राने जमाने की चेन वाली घड़ियां देखी होंगी जिन�हें जेब में रखा जाता था। जेब से निकालकर समय देखा जाता था।

माना जाता है कि क�छ लोग इस चेन वाली घड़ी को हाथ में पहनने लगे और इन हाथ में घड़ी बांधने का चलन श�रू ह�आ। बा�ं हाथ में घड़ी बांधने की म�ख�य वजह अधिकतर लोगों का दा�ं हाथ से अधिकतर काम करने वाला होना है।

जब आपका दायां हाथ काम में व�यस�त है, बा�ं हाथ में इसी दौरान समय देखना बेहद आसान होता है और काम भी दा�ं हाथ से चलता रहता है। बा�ं हाथ में घड़ी बांधना इतना कॉमन है कि घड़ियां भी इसी हिसाब से बनाई जाने लगीं। दा�ं हाथ से अन�य काम करने के चलते आपकी घड़ी भी स�रक�षित रहती है। इसके गंदे होने, स�क�रेच लगने और काम की जगह जैसे टेबल पर टकराने की संभावना भी कम होती है।


राशिफल: मकर का शानदार दिन और आपका?
Source:  Navbharat Times
Saturday, 25 May 2019 07:43

आज किया ह�आ अथवा सोचा ह�आ कार�य शीघ�र ही श�भ परिणाम देगा। कार�यक�षेत�र में परिवर�तन के योग है। यात�रा मंगलमय रहेगी। घर का वातावरण आनंददायी रहेगा।

करारी हार के बाद आज कांग�रेस वर�किंग कमेटी की बैठक, इस�तीफा दे सकते हैं राह�ल
Source:  आज तक
Saturday, 25 May 2019 07:39

लोकसभा च�नाव में बेहद शर�मनाक प�रदर�शन के बाद कांग�रेस पार�टी और राह�ल गांधी के नेतृत�व पर सवाल खड़े हो ग� हैं. पार�टी की हार की समीक�षा करने के लि� आज कांग�रेस वर�किंग कमिटी (सीडब�ल�यूसी) की बैठक दिल�ली में होगी.

भारत को हारता देख दर�शकों ने ईडन गार�डन�स पर आगजनी की, बोतलें फेंकी; मैदान पर रोने लगे थे कांबली
Source:  bhaskar
Saturday, 25 May 2019 07:35

खेल डेस�क. भारत-श�रीलंका के बीच 13 मार�च 1996 को ईडन गार�डन�स पर वर�ल�ड कप का सेमीफाइनल खेला जा रहा था। भारत की स�थिति अच�छी नहीं थी। उसको जीत के लि� 252 रन का लक�ष�य मिला था, लेकिन 34.1 ओवर में120 रन पर उसके आठबल�लेबाज पवेलियन लौट च�के थे। क�रीज पर विनोद कांबली (10 रन) और अनिल क�ंबले थे। दर�शकों को भारतीय टीम हारती दिखी तो उन�होंने मैदान के स�टैंड में आगजनी कर दी। खिलाड़ियों को त�रंत मैदान से बाहर ले जाया गया। उस समय कांबली की आंखों में आंसू थे। वह भारतीय वर�ल�ड कप इतिहास की सबसे खराब तस�वीर थी। भारतीय टीम तब चैम�पियन बनने की दावेदार थी। चार दिन पहले उसने क�वार�टर फाइनल में पाकिस�तान को हराया था।

श�रीनाथ ने पहले ओवर में जयसूर�या-कालूवितर�णा को आउट किया
भारतीय कप�तान मोहम�मद अजहर�द�दीन ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया। जवागल श�रीनाथ ने पहले ही ओवर में सनथ जयसूर�या और रमेश कालूवितर�णा कोपवेलियन भेजदिया। इसके बाद उन�होंने असंका ग�र�सिन�हेको भी आउट किया। श�रीलंका की टीम ने 50 ओवर में आठविकेट पर 251 रन बना�। अरविंद डिसिल�वा ने 66 और रोशन महानामा ने 58 रन बना�।

22 रन के अंदर भारत के 5 विकेट गिरे
लक�ष�य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की श�र�आत अच�छी नहीं रही। नवजोत सिंह सिद�धू तीन रन बनाकर चामिंडा वास की गेंद पर पवेलियन लौट ग�। इसके बाद सचिन तेंद�लकर और संजय मांजरेकर ने दूसरे विकेट के लि� 90 रन की सा�ेदारी की। टीम का स�कोर जब 98 था तो सचिन 65 रन बनाकर आउट हो ग�। इसके बाद मैच का र�ख बदल गया और 22 रन के अंदर ही भारत के पांच विकेट और गिर ग�।

दर�शकों ने स�टैंड की सीटों को उखाड़ दिया
टीम इंडिया को जीत के लि� 15.5 ओवर में 132 रन बनाने थे और उसके दो विकेट बाकी थे। इस स�थिति मेंस�टेडियम में मौजूद दर�शकों को लगा कि भारत मैच नहीं जीत पा�गा। उन�होंने ग�स�से में स�टैंड में आग लगा दी। मैदान पर बोतलें फेंकी। सीटों को उखाड़ दिया। मैच रेफरी क�लाइव लॉयड ने 15 मिनट के लि� दोनों टीमों के खिलाड़ियों को मैदान से वापस ब�ला लिया। खिलाड़ी दोबारा मैदान पर ग�, लेकिन दर�शक आक�रोशित ही थे। इसके बाद लॉयड ने श�रीलंकाई टीम को विजेता घोषित कर दिया।

श�रीलंका

कांबली रोते ह�� ड�रेसिंग रूम वापस आ�
फाइनल में पह�ंचने पर श�रीलंका के खिलाड़ी ख�शी मनाने लगे, लेकिन कांबली को यकीन नहीं ह�आ कि उनकी टीम टूर�नामेंट से बाहर हो गई। उनके आंसू बहने लगे। वे रोते ह�� ड�रेसिंग रूम में वापस जा रहे थे। भारत वर�ल�ड कप से �क कदम दूर रह गया। चैम�पियन बनने का उसका सपना चकनाचूर हो च�का था।

किसी �क ने मेरा साथ दे दिया होता तो मैं मैच निकाल लेता: कांबली
कांबली ने कई सालबाद �क इंटरव�यू में कहा, ‘‘मैंअब भी उस सेमीफाइनल के बारे में सोचता हूं। जब भी कभी मैं वह मैच देखता हूं तो आंखों से आंसू आ जाते हैं। हमने पूरे टूर�नामेंट में शानदार क�रिकेट खेली। हमने क�वार�टर फाइनल में पाकिस�तान को हराया था। सचिन के बल�लेबाजी करने तक सबक�छ सही जा रहा था, लेकिन उसके आउट होने के बाद विकेट जल�दी गिर ग�। मैंने�क �ंड पर खड़ेहोकर पांच बल�लेबाजों को आउट होते देखा। उस पारी में किसी �क ने मेरा साथ दे दिया होता तो मैं मैच निकाल लेता। मैं रोया, क�योंकि म��े लगा कि मैंने देश के लि� क�छ करने का �क मौका खो दिया।’’



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लि� दैनिक भास�कर �प डाउनलोड करें
विनोद कांबली और ईडन गार�डन�स में आगजनी (1996)।

पाताल का राजा
Source:  Emalwa
Saturday, 25 May 2019 07:27

�क बार महाराज कृष�णदेव राय ने तेनालीराम से किसी विचित�र जगह पर घूमने की इच�छा प�रकट की| तेनालीराम बोले:-� महाराज! मैं आपको �सी जगह पर घ�मा कर लाऊंगा, जहां आप आज तक कभी नहीं ग� होंगे| आपने उस जगह के बारे में किसी से स�ना भी नहीं होगा|�

कृष�णदेवराय, तेनालीराम की बातें स�नकर हैरान रह ग� और उनकी उत�स�कता और बढ़ गई| उन�होंने तेनालीराम से �सी जगह त�रंत ही चलने का आग�रह किया| �क दिन श�भ म�हूर�त में राजा कृष�णदेव राय अपनी सेना सहित तेनालीराम के साथ चल दि�|

तेनालीराम इन सभी को लेकर जंगल के बीच में �क ग�फा में प�रवेश कर ग�| कृष�णदेव राय ने तेनालीराम से कहा:-� इस जंगल में से होकर ग�जरे हैं, यहां पर हम अनेकों बार शिकार खेलने आ� हैं|�

तेनालीराम ने उत�तर दिया:-� महाराज! आप इस जंगल में से हजारों बार निकले होंगे, परंत� इस राज�य में आप पहली बार ही आ� हैं|�
कृष�णदेव राय ने हैरानी भरी नजरों से तेनालीराम को देखते ह�� कहा:-� हमारे राज�य में यह दूसरा राज�य कहां से आ गया है?�

तेनालीराम ने कहा:- “महाराज! अभी पता चल जा�गा|� इतना कहकर तेनालीराम सब को थोड़ा आगे ले ग� और �क जगह पर उन�होंने ग�फा की दीवार को ठकठकाया| इससे दीवार �क और सरक गई| वहां से कितने ही सैनिक निकले जिन�होंने �क साध� को पकड़ रखा था| कृष�णदेवराय उस साध� को पहचान कर बोले:-� अरे! यह तो चमत�कारी बाबा है|�

तेनालीराम ने कहा:-� नहीं महाराज! यह तो इस पाताल नगरी के राजा हैं| यहां पर इन�होंने पाताल नगरी वसा रखी है| इनके पास कई हजार सैनिक हैं और बह�त बड़े खजाने के मालिक हैं|�

इतना कहकर तेनालीराम पाताल नरेश का खजाना, महाराज कृष�णदेव राय को दिखाने लगे| अब तेनालीराम, महाराज को स�रंग के �क बह�त बड़े कमरे में ले ग�|

यहां पर बह�त सारे सैनिकों ने अन�य सैनिकों को कैद कर रखा था तथा चारों और हथियार ही हथियार बिखरे पड़े थे|

इतना दिखाकर तेनालीराम बोले:-� महाराज! यह कोई चमत�कारी बाबा नहीं है| यह वेश बदल कर पड़ोसी शत�र� देश के सैनिक हमारे राज�य में अशांति फैलाने और लूटमार करने के इरादे से यहां आ� हैं| जब यह चमत�कारी बाबा बनकर हमारे दरबार में आया था तो म��े तभी इस पर शक हो गया था| परंत� मेरे पास कोई ठोस सबूत नहीं था| मैं इसका पीछा करते ह�� यहां तक आया तो यह बाबा इस स�रंग के अंदर घ�सकर गायब हो गया| मैं सम� गया कि इस स�रंग में ही इसका अड�डा है|�

राजा कृष�णदेव राय ने अपने सैनिकों को सभी को गिरफ�तार करने का आदेश दिया|

महाराज, तेनालीराम से कहने लगे:-� त�म वास�तव में ही काफी चत�र और ब�द�धिमान हो| त�म विजयनगर के अनमोल रत�नों में से सबसे बड़े अनमोल रतन हो| आज हम त�म�हारी ब�द�धि के हमेशा के लि� कायल हो ग�|�


8वीं पास के लि� उत�तर रेलवे में निकली है नौकरियां, �से करें आवेदन
Source:  Emalwa
Saturday, 25 May 2019 07:23

उत�तर रेलवे ने स�टेशन मास�टर, ग�ड�स गार�ड और अन�य 749 पदों पर भर�ती के लि� नोटिफिकेशन जारी कर आवेदन मांगे ग� है। उम�मीदवार अपनी इच�छा और योग�यता से इनके लि� अप�लाई कर सकते है।

शैक�षिक योग�यता 
उम�मीदवार के आठवीं/ दसवीं/ बारहवीं/ आईटीआई/ बैचलर डिग�री/ डिप�लोमा होना चाहि�।

पद विवरण 
पदों की संखà¥�या – 749 पद
स�टेशन मास�टर
ग�ड�स गार�ड
टिकट क�लर�क
परिचारिका
जूनियर क�लर�क सह टाइपिस�ट
तकनीशियन
जूनियर इंजीनियर
असिस�टेंट लोको पायलट

आवेदन करने के लि� अंतिम तिथि
इन पदों के लि� आवेदन करने की अंतिम तिथि 26 जून 2019 है।

आय� सीमा 
उम�मीदवार की अधिकतम आय� 42 वर�ष के अंदर होनी चाहि�।

चयन प�रकिया
उम�मीदवार का चयन लिखित परीक�षा, साइको / �प�टीट�यूड / स�पीड / टाइप टेस�ट में प�रदर�शन के अन�सार किया जा�गा।

�से करें आवेदन 
उपरोक�त पदों पर आवेदन करने के लि� उम�मीदवार विभाग की वेबसाइट nr.indianrailways.gov.in के जरि�  26 जून 2019 तक अप�लाई कर सकते है , लेकिन इन पदों के लि� आवेदन प�रकिया 27 मई से श�र� होगी ।


Xiaomi ने भारत में लॉनà¥�च किया सà¥�पेशल ‘चशà¥�मा’
Source:  Emalwa
Saturday, 25 May 2019 07:22

Xiaomi ने भारत में Mi Polarised Square सनग�लासेस को लॉन�च कर दिया है. कंपनी ने इसकी कीमत 899 र�पये रखी है. मी पोलराइज�ड स�क�वायर सनग�लासेस की बिक�री भारत में पहले ही श�रू कर दी गई है. इस सनग�लास को दो कलर वेरि�ंट- ब�लू और ग�रे में पेश किया गया है. मी सनग�लासेस में पोलराइज�ड लेंस दिया गया है और शाओमी का दावा है कि इससे यूजर�स को काफी अच�छी विज�अल क�लैरिटी मिलेगी. Mi Polarised Square Sunglasses में ढेरों फीचर�स दि� ग� हैं.

– मी पोलराइजà¥�ड सà¥�कà¥�वायर सनगà¥�लासेस को TAC पोलराइजà¥�ड लेंस के साथ पेश किया गया है. जो वासà¥�तव में O6 लेयरà¥�ड लेंस टेकà¥�नोलॉजी है. ये टेकà¥�नोलॉजी गà¥�लेयर, पोलराइजà¥�ड लाइट और हारà¥�मफà¥�ल UV रेज को आंखों तक पहà¥�ंचने से रोकता है.

– इसके अलावा पोलराइजà¥�ड लेंस कॉनà¥�टà¥�रासà¥�ट को à¤�नà¥�हांस करता है, विजà¥�अल कà¥�लैरिटी को बढ़ाता है और आई सà¥�टà¥�रेन को रिडà¥�यूस करता है.

– शाओमी ने दावा किया है कि मी पोलराइजà¥�ड सà¥�कà¥�वायर सनगà¥�लासेस सà¥�कà¥�रैच रेसिसà¥�टेंट भी हैं.

– इसके अलावा कंपनी ने दावा किया है कि सनगà¥�लासेस में फà¥�लेकà¥�सिबल TR90 फà¥�रेमà¥�स दिà¤� गà¤� हैं. शाओमी ने जानकारी दी है कि ये गà¥�लासेस डà¥�यूरेबल, लाइटवेट और फà¥�लेकà¥�सिबल हैं.

– अचà¥�छी बात ये है कि Mi Sunglasses यूनिसेकà¥�स हैं.

– इसके साथ गà¥�राहकों को 6 महीने की वारंटी भी मिलेगी.

– इचà¥�छà¥�क गà¥�राहक इसे शाओमी की आधिकारिक वेबसाइट से खरीद सकते हैं.


दस�तक अभियान 10 जून से 20 ज�लाई तक चलाया जा�गा
Source:  Emalwa
Saturday, 25 May 2019 07:21

रतलाम के जिला प�रशिक�षण केन�द�र विरियाखेडी पर दस�तक अभियान की तैयारी हेत� कार�यशाला का आयोजन किया गया। म�ख�य चिकित�सा �वं स�वास�थ�य अधिकारी डॉ. प�रभाकर ननावरे ने बताया कि दस�तक अभियान �क नवाचार है जिसमें 5 वर�ष तक के बच�चों में व�याप�त प�रम�ख रोगों के नियंत�रण, संभावित मृत�य� के प�रम�ख कारकों को दृष�टिगत रखते ह�� बीमार बच�चों की सक�रिय पहचान �वं बाल मृत�य� में सर�वाधिक गिरावट हेत� साक�ष�य आधारित अन�य गतिविधियों का क�रियान�वयन स�वास�थ�य विभाग द�वारा समन�वित विभागों के साथ वर�ष में दो बार आयोजित किया जाता है। वर�ष 2019-20 में दस�तक अभियान के प�रथम चरण का आयोजन 10 जून से 20 ज�लाई तक किया जा�गा जिसमें ��न�म, आशा कार�यकर�ता �वं आंगनवाड़ी कार�यकर�ता के द�वारा दल बनाकर घर-घर जाकर 05 वर�ष तक के बच�चों की जांच की जा�गी जिसमें बच�चों में क�पोषण की जांच �वं चिन�हित गंभीर क�पोषित �वं बीमार बच�चों को पोषण प�नर�वास केंद�र में रेफर किया जा�गा। 06 माह से 05 वर�ष तक के बच�चों में खून की कमी की जांच �वं गंभीर खून की कमी वाले बच�चों को उपचार के लि� रेफर किया जा�गा। बच�चों में निमोनिया �वं दस�त रोग की पहचान कर चिन�हित गंभीर बच�चों का प�रबंधन किया जा�गा। बच�चों में जन�मजात विकृति की पहचान �वं अन�य बीमारियों जांच �वं उचित प�रबंधन किया जा�गा। 09 माह से 05 वर�ष के समस�त बच�चों को विटामिन ‘�’ की ख�राक पिला�ंगे। स�तनपान �वं उचित आहार संबंधी सलाह दी जा�गी। कार�यक�रम के दौरान ही दस�त रोग नियंत�रण पखवाडे के साथ ओ.आर.�स पैकेट का वितरण तथा ओआर�स जिंक की गोली �वं हाथ ध�लाई संबंधी सलाह दी जा�गी। जन�म के समय शिश�ओं �वं कम वजन के बच�चों की उचित देखभाल संबंधी सलाह दी जा�गी। दस�तक अभियान की गतिविधि के अंतिम दिवस पर छूटे ह�� बच�चों को कवरेज करने के लि� स�वस�थ ग�रामसभा का आयोजन किया जा�गा। ग�रामसभा में दस�तक अभियान के साथ साथ संचारी रोगों मलेरिया , टीबी , क�ष�ठ के साथ असंचारी रोगों उच�च रक�तचाप , मध�मेह , कैंसर के बारे में भी स�वास�थ�य शिक�षा दी जा�गी।

कार�यशाला में महिला बाल विकास की परियोजना अधिकारी श�रीमती प�रेरणा तोगडे तथा अन�य परियोजना अधिकारी, स�परवाईजर, डी�चओ डॉ. जीआर गौड, डीआईओ डॉ. वर�षा क�रील, डीपी�म डॉ. विरेन�द�र रघ�वंशी, �म �ंड ई श�री राकेश सिंह, मीडिया अधिकारी श�री आशीष चौरसिया, �नआई के सहभागीय समन�वयक श�री आशीष प�रोहित, टाटा ट�रस�ट की स�श�री भावना अरोरा, विकासखंड चिकित�सा अधिकारी, चिकित�सा अधिकारी, बीईई, बीपी�म, बीसी�म सहित अन�य विभागीय अधिकारी, कर�मचारी आदि उपस�थित रहे।


भाजपा ने 2014 में जीती 24 सीटें गंवाईं, 56 नई जोड़ीं; कांग�रेस ने अपनी 18 सीटें बचाईं
Source:  bhaskar
Saturday, 25 May 2019 07:18

नई दिल�ली. इस बार लोकसभा च�नाव में 437 सीटों पर लड़ी भाजपा को 303 सीटें मिलीं। यह अब तक का भाजपा का सबसे अच�छा प�रदर�शन है। भाजपा ने पिछली बार 282 सीटें जीतीं थीं। इनमें से 11 सीटें उसने इस बार अपने सहयोगी दलों को दी थी। इस तरह अपनी जीती ह�ई 271 सीटों पर लड़ते ह�� भाजपा ने 247 पर जीत बरकरार रखी और 24 सीटें गंवाईं। कांग�रेस ने 8, सपा-बसपा गठबंधन ने 13 और अन�य दलों ने भाजपा से 3 सीटें छीनीं। हालांकि 56 नई सीटें जोड़कर भाजपा ने न केवल खोई ह�ई सीटों की भरपाई की, बल�कि जीत का आंकड़ा 303 पर पह�ंचा दिया।

वहीं, कांग�रेस ने पिछली बार जीती 44 सीटों में से 2 सीटें सहयोगियों को दीं और 42 पर अपने उम�मीदवार उतारे। इनमें से कांग�रेस ने 23 सीटें गंवाईं, 19 पर जीत बरकरार रखी और 33 नई सीटें जोड़ीं। इस तरह कांग�रेस ने क�ल 52 सीटें जीतीं। कांग�रेस से सबसे ज�यादा सीटें भाजपा ने छीनीं। कांग�रेस की 2014 में जीती ह�ई 17 सीटों पर इस बार भाजपा ने उसे हराया। भाजपा के सहयोगी दलों ने भी कांग�रेस से 3 सीटें छीनीं।

भाजपा ने पश�चिम बंगाल, कर�नाटक और ओडिशा में सबसे ज�यादा नई सीटें जोड़ीं

भाजपा ने पश�चिम बंगाल में अपनी 2 सीटें बरकरार रखीं और 16 नई सीटों पर जीतकर राज�य में अपनी संख�या 18 पर पह�ंचा दी। भाजपा ने यहां तृणमूल से 14 सीटें साथ हीमाकपा औरकांग�रेस से 1-1 सीटें छीनीं। भाजपा का प�रदर�शन कर�नाटक और ओडिशा में भी अच�छा रहा। पार�टी ने कर�नाटक में 8 और ओडिशा में 7 नई सीटें जोड़ीं। ओडिशा में भाजपा ने सभी नई सीटें बीजद को हराकर जोड़ीं।

2014 में भाजपा

सहयोगी को दी सीटें

कितनी सीटें गंवाई

2019 में सीटें

उप�र (80)

71

1 सीट अपना दल को

13

62 (57 प�रानी+5 नई)

महाराष�ट�र (48)

23

1 सीट शिवसेना को

1

23 (21 प�रानी+2 नई)

बंगाल (42)

2

0

18 (2 प�रानी+16 नई)

बिहार (40)

22

7 सीटें जदयू और लोजपा को

0

17 (15 प�रानी+2 नई)

तमिलनाड� (39)

1

1

0

मप�र (29)

27

0

28 (27 प�रानी+1 नई)

कर�नाटक (28)

17

0

25 (17 प�रानी+8 नई)

ग�जरात (26)

26

0

26 (26 प�रानी)

आंध�र प�रदेश(25)

2

2

0

राजस�थान (25)

25

1 सीट सीट रालोपा को

0

24 (24 प�रानी)

ओडिशा (21)

1

0

8 (1 प�रानी+7 नई)

केरल (20)

0

0

0

तेलंगाना (17)

1

0

4 (1 प�रानी+3 नई)

�ारखंड (14)

12

1 सीट आजसू को

1

11 (10 प�रानी+1 नई)

असम (14)

7

1

9 (6 प�रानी+3 नई)

पंजाब (13)

2

0

2 (2 प�रानी)

छत�तीसगढ़ (11)

10

2

9 (8 प�रानी +1 नई)

हरियाणा (10)

7

0

10 (7 प�रानी+3 नई)

दिल�ली (7)

7

0

7 (7 प�रानी)

कश�मीर (6)

3

0

3 (3 प�रानी)

उत�तराखंड (5)

5

0

5 ( 5 प�रानी)

हिमाचल (4)

4

0

4 ( 4 प�रानी)

मणिप�र (2)

0

0

1 (1 नई)

अर�णाचल (2)

1

0

2 (1 प�रानी+1 नई)

मेघालय (2)

0

0

0

गोवा (2)

2

1

1 (1 प�रानी)

त�रिप�रा (2)

0

0

2 (2 नई)

अंडमान (1)

1

1

0

प�ड�चेरी (1)

0

0

0

लक�षद�वीप (1)

0

0

0

चंडीगढ़ (1)

1

0

1 (1 प�रानी)

मिजोरम (1)

0

0

0

दादर-नगर हवेली (1)

1

1

0

नगालैंड (1)

0

0

0

दमन-दीव (1)

1

0

1 (1 प�रानी)

सिक�किम (1)

0

0

0

क�ल (543)

282

11 सीटें सहयोगी दलों को दीं

24

303 (247 प�रानी जीतीं+56नई जोड़ीं)

दक�षिण भारत के दो राज�यों ने कांग�रेस के लि� सबसे ज�यादा नई सीटें जोड़ीं
कांग�रेस ने तमिलनाड� और केरल में 8-8 नई सीटें जोड़ीं। कांग�रेस ने केरल में अकेले 15 सीटें जीतीं, उसके गठबंधन को राज�य की 20 में से 19 सीटों पर जीत मिली। तमिलनाड� में डी�मके के साथ गठबंधन ने कांग�रेस को बड़ा सहारा दिया। पार�टी को पिछली बार तमिलनाड� में �क भी सीट हासिल नहीं ह�ई थी। इस बार तमिल राज�य में कांग�रेस ने 8 सीटें जीतीं। वहीं उसके गठबंधन ने 39 में से 37 सीटें जीतीं। कांग�रेस के लि� तीसरे नंबर पर पंजाब रहा। यहां पार�टी ने 3 प�रानी सीटों पर जीत बरकरार रखते ह�� 5 नईं सीटें जोड़ीं।

2014 में कांग�रेस

सहयोगियों को दी सीटें

कितनी सीटें गंवाई

2019 में सीटें

उत�तर प�रदेश (80)

2

1

1 (1 प�रानी)

महाराष�ट�र (48)

2

2

1 (1 नई)

पश�चिम बंगाल (42)

4

2

2 (2 प�रानी)

बिहार (40)

2

1

1 (1 प�रानी)

तमिलनाड� (39)

0

0

8 (8 नई)

मध�य प�रदेश (29)

2

1

1 (1 प�रानी)

कर�नाटक (28)

9

�क सीट जेडी�स को दी

7

1 (1 प�रानी)

ग�जरात (26)

0

0

0

आंध�र प�रदेश (25)

0

0

0

राजस�थान (25)

0

0

0

ओडिशा (21)

0

0

1 (1 नई)

केरल (20)

8

1

15 (7 प�रानी+8 नई)

तेलंगाना (17)

2

1

3 (1 प�रानी+2 नई)

�ारखंड (14)

0

0

1 (1 नई)

असम (14)

3

2

3 (1 प�रानी+2 नई)

पंजाब (13)

3

0

8 (3 नई+5 प�रानी)

छत�तीसगढ़ (11)

1

1

2 (2 नई)

हरियाणा (10)

1

1

0

दिल�ली (7)

0

0

0

जम�मू-कश�मीर (6)

0

0

0

उत�तराखंड (5)

0

0

0

हिमाचल प�रदेश (4)

0

0

0

मणिप�र (2)

2

2

0

अर�णाचल प�रदेश (2)

1

1

0

मेघालय (2)

1

0

1 ( 1 प�रानी)

गोवा (2)

0

0

1 ( 1 नई)

त�रिप�रा (2)

0

0

0

अंडमान निकोबार (1)

0

0

0

प�ड�चेरी (1)

0

0

1 ( 1 नई)

लक�षद�वीप (1)

0

0

0

चंडीगढ़ (1)

0

0

0

मिजोरम (1)

1

निर�दलीय उम�मीदवार का समर�थन किया

0

0

दादर �वं नगर हवेली (1)

0

0

0

नगालैंड (1)

0

0

1 (1 नई)

दमन �वं दीव (1)

0

0

0

सिक�किम (1)

0

0

0

क�ल (543)

44

2 सीटों पर अन�य उम�मीदवारों को समर�थन

23

52 (19 प�रानी जीतीं+ 33 नई जोड़ीं)


उत�तर प�रदेश में महागठबंधन ने 13 नई सीटें जोड़ीं, सभी पर 2014 में भाजपा जीती थी
उत�तर प�रदेश में सपा-बसपा और रालोद का गठबंधन, भाजपा को रोक तो नहीं पाया, लेकिन तीनों ने मिलकर भाजपा से 2014 की जीती ह�ईं 13 सीटें छीन लीं। महागठबंधन को क�ल 15 सीटें मिलीं। इनमें सपा ने अपनी प�रानी 5 में से 2 सीटों पर जीत बरकरार रखी और 3 नई सीटें जीतीं। वहीं, पिछली बार �क भी सीट नहीं जीतने वाली बसपा को राज�य में इस बार 10 सीटें मिलीं। रालोद के हाथ इस बार भी खाली ही रहे। राज�य में भाजपा ने 2014 की जीती ह�ई 71 सीटों में से 57 पर जीत बरकरार रखी और क�ल 13 गंवाईं। �क सीट उसने अपने सहयोगी अपना दल को दी थी। भाजपा ने यहां 5 नई सीटें भी जोड़ीं। इनमें 3 सीटें भाजपा ने सपा से और 1 सीट कांग�रेस से छीनीं। वहीं �क सीट उसने अपने सहयोगी अपना दल की सीट से च�नाव लड़कर जीती।

पश�चिम बंगाल में तृणमूल, ओडिशा में बीजद ने 40% से ज�यादा सीटें गंवाईं
क�षेत�रीय दलों में सबसे ज�यादा न�कसान तृणमूल, बीजद और अन�नाद�रमक को ह�आ। तृणमूल ने 2014 में जीतीं 42% सीटें (12) गंवाईं। पार�टी को 2014 में 34 सीटें मिलीं थीं। इस बार उसे 22 पर जीत मिली। पार�टी ने 2 नई सीटें भी जोड़ीं। �क उसने कांग�रेस से और �क माकपा से छीनी। बीजद ने भी 40% सीटें (8) गंवाई। उससे �क सीट कांग�रेस ने और 7 सीटें भाजपा ने छीनीं।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लि� दैनिक भास�कर �प डाउनलोड करें
Lok Sabha Analysis: Know how BJP and Congress performance improved or worsened in 2019 compared to 2014

<< < Prev 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 Next > >>